Wed. Jun 29th, 2022

What is Credit Card in Hindi – जानिए क्या होता है Credit Card?

आप ने क्रेडिट कार्ड के बारे में तो बहुत सुना होगा आप में से बहुत लोग होगें जिनके पास Credit Card होगा भी, कुछ लोग क्रेडिट कार्ड बनवाना भी कहते है, आज हर कोई Credit Card अपने पास रखना चाहता है लेकिन क्रेडिट कार्ड उसी को मिलता है जिसके पास उतनी Income हो सभी को ये सुबिधा नहीं मिल पाती है । क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये की पूरी जानकारी Hindi में आपके साथ share करेंगे

What is Credit Care in Hindi –

HDFC Credit Card

Financial लिटरेसी के बारे में जानना आज देश के हर छोटे बड़े लोगों को है, Young हो या Retired Person, Farmer हो या फिर entrepreneur, Private Naukari वाला हो या सरकारी नौकरी हर किसी को यह जानकारी होना बहुत ही जरुरी है, आज देश के गांव, रेसिडेंशियल सोसायटी, ऑफिस, कॉलेज या स्कूल सभी में क्रेडिट कार्ड को लेकर जानकारी प्राप्त करने की जरुरत होती है लोग क्रेडिट कार्ड के बारे में जानकारी लेना का प्रयास करते है की क्रेडिट कार्ड क्या होता है और यह कैसे काम करता है, इसको कैसे बनवाने और इसका सही से इस्तेमाल कैसे करें, Credit Card आज के समय में लोगों की जरुरत बनता जा रहा है, आज हर कोई इसको लेना चाहता है ऐसे में इसको लेने से पहले लोगों में इसके बारे में जानकारी भी होना जरुरी हो जाता है। अब Credit Card हमारे दौर की हकीकत बन चुका है।

Credit Card Kya Hai?

यह कैसे Work करता है? इसके क्या फायदे हैं, क्रेडिट कार्ड कैसे हासिल किया जा सकता है और इसके इस्तेमाल में क्या सावधानियां बरतनी चाहिए।

Credit Card से उधार पर खरीदारी मुमकिन है। Credit Card को Plastic Money कहा जाता है और हर Bank का अपना अलग क्रेडिट कार्ड होता है। Credit Card Use की एक Limit होती है और इसमें लिमिट से ज्यादा खर्च करना मुमकिन नहीं है। इस कार्ड से जरूरत के वक्त पैसा भी निकाला जा सकता है, लेकिन Time पर पैसा न लौटाया गया तो इसपर भारी ब्याज भी देना पड़ता है। Credit Card की ब्याज दर काफी ज्यादा होती है। क्रेडिट कार्ड की ब्याज दरें 48% सालाना तक हो सकती हैं।

Credit Card के जरिए Cash या Payment के लिए Pin Number जरूरी होता है। Credit Card से Online Payment के लिए OTP जरूरी होता है। Debit Card की तर्ज पर Credit Card पर भी सेफ्टी के लिए खास Details होती है। क्रेडिट कार्ड के पीछे 3 Digits का CCV Number होता है और Online Shopping में CVV Number जरूरी है। क्रेडिट कार्ड पर Expiry Date होती है और Credit Card के Pin Number के बिना Transaction नहीं हो सकता है।

अगर आप पैसा कमाते है और उसका Proof है, तो आप को क्रेडिट कार्ड मिल जायेगा चाहे आप सरकारी नौकरी करते हो या नहीं “

What is Credit Card in Hindi

Credit Card Kya Hai? – क्रेडिट कार्ड का मतलब होता है की बैंक आप को एडवांस में पैसे उधार के तोर पर देती है और बाद में वो पैसे आप से लेती है यानि अगर आप के पास पैसे नहीं भी है तो कार्ड का इस्तेमाल करके आप कार्ड की जीतनी लिमिट है उतने पैसे की शॉपिंग और कर भी कोई ख़र्चे कर सकते है । बैंक आप से उन पैसों को 40-60 दिन बाद लेती है एक तरह से कहें की बैंक हमें उधार देती है जो बाद में हम उसको पे करते है क्रेडिट कार्ड को प्लास्टिक कार्ड भी कहा जाता है । जिसका प्रयोग आप किसी shop का बिल, online shopping, money transfer और ATM में से cash निकलवाने के लिए इस्तेमाल कर सकते है । क्रेडिट कार्ड को Cash Advance और Cash Withdrawal भी कहा जाता है क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल आप न सिर्फ अपने देश में बल्कि विदेशों में भी पेमेंट के लिए कर सकते है । क्रेडिट कार्ड की सुविधा बैंक द्वारा दी जाती है अगर आपको किसी चीज का भुगतान करना होता है तो आपको उसे नकद पैसे नही देने होते बल्कि आप आने क्रेडिट कार्ड (Credit Card) के जरिये उसके Amount का भुगतान कर सकते है ।

क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाएं ? (Apply for Credit Card in Hindi)

अगर आप क्रेडिट कार्ड बनवाना चाहते है तो आप सभी को बैंक में जाना होगा वहां से क्रेडिट कार्ड बनता है बैंक में एक कर्मचारी होता है जो लोगों के क्रेडिट कार्ड के बारे में बताता है कि क्रेडिट कार्ड कैसे और किसे मिलता है आजकल तो कुछ बैंकों में क्रेडिट कार्ड के लिए ऑनलाइन भी सुबिधा मिलने लगी है जिसका सबसे बड़ा उदहारण State Bank of India है जिसमे आप सभी Online Application करके क्रेडिट कार्ड बनवा सकते है State Bank जल्द ही एक ऐसी सुबिधा ला रहा है जिसके जरिये सभी को क्रेडिट कार्ड दिया जायेगा उस सुबिधा का नाम है सभी SBI उन्नति क्रेडिट कार्ड जो जल्द ही लोगों को मिलेगी इसके लिए आप के Bank Account में कुछ पैसे हमेशा होने चाहिए उन्हीं लोगों को ये सुबिधा मिलेगी ।

क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए 3 तरीके होते है ।

इसे भी जाने – Credit Card Tips for New Users

सरकारी नौकरी वालों के लिए
स्वरोजगार वालों के लिए
यदि नौकरी वाले/स्वरोजगार वाले दोनों ही न हो तो

सरकारी नौकरी (Sarkari Naukari) – अगर आप सरकारी नौकरी में है या किसी अच्छी प्राइवेट कंपनी में है और आप की सैलरी बैंक अकाउंट में आती है तो ये सबसे अच्छा तरीका है क्रेडिट कार्ड बनवाने का, इससे आप का क्रेडिट कार्ड बहुत ही जल्द बन जायेगा

स्वरोजगार (Self Employed) – अगर आप का खुद का बिज़नेस है तो आप को बैंक में जाकर अपने बिज़नेस के बारे में सारी जानकारी बैंक को बताएं की आप महीने में कितने का कारोबार है और कितने रूपये का इनकम टैक्स देते है सारी जानकारी बैंक को देने के बाद ही बैंक आप को क्रेडिट कार्ड देता है बिज़नेस मैन को बैंक आसानी से कार्ड दे देता है क्यों की बैंक जनता है की आप कार्ड लेने के लायक है इन चीजो को आधार मानकर बैंक आपके क्रेडिट कार्ड के आवेदन को स्वीकार करता है और कार्ड की धन राशि की अधिकतम सीमा को निर्धारित करता है ।

“आज के समय में एक अच्छी लाइफ जीने के लिए क्रेडिट कार्ड का होना अच्छा माना जाता है “

तीसरा रास्ता अगर आप के पास सरकारी नौकरी और अपना खुद का बिज़नेस नहीं है तो आप बैंक में अपने नाम से FD (Fixed Deposit) कराकर क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते है इसके लिए आप का बैंक में अकाउंट होना अनिवार्य है जितने ज्यादा पैसों की Fixed Deposit करवाएंगे उतना ही ज्यादा पैसे आप Credit Card की लिमिट में पायेगें उदहारण के लिए – अगर आप 20,000 हजार रूपये की FD करायेगे तो आप को महीने में 6000,7000 रूपये तक का क्रेडिट कार्ड मिल सकता है ।

क्रेडिट कार्ड के प्रकार (Types of Credit Card in Hindi)

क्रेडिट कार्ड तीन प्रकार के होते है – Revolving Credit Card, Store Card & परंपरागत चार्ज कार्ड

India Me कौन सी बैंकें credit card offer करती है – स्टेट बैंक इंडिया, बैंक ऑफ़ बरोदा, बैंक ऑफ़ इंडिया, कैनरा बैंक , पंजाब नेशनल बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक , कारपोरेशन बैंक, यूनियन बैंक, बैंक , Icici HDFC Bank, kotak Bank, Indusind Bank, Axis Bank, Hsbc, Syndicate Bank ,Vijaya Bank ।

Latest Updates

Credit Card 2 तरह के होते हैं, Meganetic Strip Card और चिप बैस्ड कार्ड, मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले Credit Card के Back हिस्से में Meganetic स्ट्रिप होती है। मैग्नेटिक स्ट्रिप में Card Holder की सारी Details छिपी होती है। हालांकि मैग्नेटिक स्ट्रिप कार्ड में Risk ज्यादा होता है। इस Card में Card Holder की Details चोरी होने का खतरा होता है। Software की Help से Data चोरी हो सकता है। वहीं चिप बेस्ड क्रेडिट कार्ड में Risk कम होता है। चिप बेस्ड Credit Card में एक Micro Chip लगी होती है। Chip का Data खास Sell Machine ही पढ़ सकती है और Machine में बिना Pin Number डाले Transaction नहीं हो सकता है।

 क्रेडिट कार्ड (Credit Card) के फायदे –

 1. क्रेडिट कार्ड के द्वारा आपके पास बैंक में पैसे नहीं होने के बावजूद आप अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट तक खरीदारी कर सकते हैं।  महीने के अंत में आपने अपने क्रेडिट कार्ड के द्वारा जितनी भी खरीदारी की है, आपको उसका बिल आ जाएगा और उस बिल का भुगतान आप ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर कर या फिर अपने Bank Cheque द्वारा पैसे जमा कर कर सकते  हैं। इस तरह आपको हर वक्त पैसे लेकर घूमने की जरूरत नहीं है।  आप एक Credit Card रखें और उससे खरीदारी करते रहिए और महीने के अंत में एक बार पैसे जमा करिए।

  • हम सभी को कही नकद पैसे लेकर नही जाने पड़ते ।
  • हम Online Shopping कर सकते हो, साथ ही आपको क्रेडिट कार्ड से खरीदारी पर अधिक बचत या डिस्काउंट भी मिलता है ।
  • आप अपने सारे खर्चों को एक मासिक भुगतान में एकीकृत कर सकते हैं।

Credit Card के इस्तेमाल से आप Online Shopping का भुगतान EMI में कर सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड के नुकसान

  • यदि आप कार्ड खाते का संचालन सही तरीके से नहीं करते हों तो आपको Over Limit या लेट फीस लग सकती है।
  • देर से Payment करने या Over Limit आपके क्रेडिट स्कोर पर बुरा असर डाल सकते हैं।
  • Credit Card से ब्याज के जाल में फंसने का डर रहता है।
  • Credit Card देते वक़्त कहा जाता है कि क्रेडिट कार्ड पर जीरो EMI है किन्तु ये नही बताया जाता जीरो प्रतिशत ब्याज पर EMI की कुछ नियम और शर्ते लागू होती है।
  • आज कल ऑनलाइन क्रेडिट कार्ड के frauds बहुत ही बढ़ गए हे इसलिए कार्ड का प्रयोग सावधानी से करे।

“क्रेडिट कार्ड आज के जीवन की जरुरत बनता जा रहा है “

अन्य जानकारी के लिए इसे भी पढ़े

बजाज फाइनेंस क्या होता है पूरी जानकारी

Top 20 Digital Wallets in India

By VpHindiBlogger

Hi friends, My name is VP Yadav from UP. I am the Operational Head and Managing Director of https://nationalinsuranceblog.com My Specialization (10 Years Exp) SEO Analyst Blogging (Hindi Blogger) Affiliate Marketer Wordpress CMS Pinterest Marketing Expert

Leave a Reply

Your email address will not be published.