Sun. Jan 23rd, 2022

Demat Account in Hindi – डीमैट क्या है? यह कैसे काम करता है, Demat की आप को आवश्यकता क्यों पड़ती है? यह कैसे काम करता है,  और इसके क्या-क्या Benefits हैं विस्तार से जानकारी हिंदी में।

Demat Account in Hindi –

Demat Account Kya Hota Hai? इसको बहुत ही आसानी से ऐसे समझिये जैसे हम आपने पैसे अपने बैंक के Account में रखते हैं वैसे ही हम अपने shares डीमैट खाते में रखते हैं For Example हम यदि बैंक के खाते से नकदी निकलवा लें तो वह नकदी या Currency पैसे का भौतिक रूप माना जायेगा, मगर जब हम अपने डेबिट कार्ड (Debit Card) से किसी दूकानदार को पेमेंट (Payment) करते हैं तो यह पैसों का इलेक्ट्रॉनिक ट्रान्सफर (Electronic Transfer) हुआ। इसी प्रकार यदि हमारे पास share हैं तो हम या तो उन्हें किसी को gift देंगे या Market में बेच देंगे, दोनों ही positions में शेयरों का एक डीमैट खाते (demat Account) से दूसरे Demat Account में Electronic Transfer किया जाएगा। शेयरों को भौतिक रूप में रखने की आवश्यकता ही नहीं पड़ती।

Demat Account in Hindi

Demat Account in Hindi –

Demat Account Kya Hai? India में शेयर और प्रतिभूतियां को इलेक्ट्रॉनिक रूप से Dematerialized डिमैटीरिलाईज्ड यानी डीमैट खातों में रखा जाता है. Shareholders शेयरों को भौतिक रूप में यानी कागज़ पर छपे हुए शेयर सर्टिफिकेट (share certificate) नहीं रखते. इसके लिए ब्रोकर (Brokers) के पास जाकर डीमैट खाता (demat Account) खुलवाया जाता है. सभी शेयरों के Transactions में डीमैट खाते का नंबर लिखा जाता है जिससे कि शेयरों की खरीद बिक्री का इलेक्ट्रॉनिक सेटलमेंट हो सके. किसी भी तरह के शेयरों के लेनदेन के लिए share होल्डर के पास डीमैट खाता (Demat account) होना आवश्यक है ।

डीमैट खाते (Demat Account) तक पहुँचने के लिए इन्टरनेट पर पासवर्ड की जरूरत होती है. शेयरों की खरीद और बिक्री सौदा Confirm होने पर Self ही हो जाती है ।

जब भी कोई Company Bonus अथवा राईट शेयर (right share) जाती कराती है तो ये शेयर भी सीधे शेयर होल्डर (shareholders) के डीमैट खाते में आ जाते हैं आईपीओ IPO में शेयरों के आवेदन करने के लिए भी Demate Account की आवश्यकता होती है यदि IPO में आपको शेयर मिले हैं तो वे सीधे आपके डीमैट खाते (Demat Account) में ही आ जाते हैं ।

Demat के फायदे (Benefits of Demat Account)

Demat शेयर कभी गुम नहीं होते, खराब नहीं हो सकते, चोरी नहीं होते है इनमे Signature ना मिलने जैसी समस्या भी नहीं होती Demat Account’s की वजह से share की खरीद बिक्री में धोखा होने की संभावना भी समाप्त हो जाती है. यह बहुत ही सुविधाजनक भी है।

आप अपना डीमैट खाता किसी दूसरे को Transfer नहीं कर सकते मगर इसमें पड़े share दूसरे को ट्रान्सफर कर सकते हैं. डीमैट खाता किसी दूसरे के साथ Joints तरीके से खुलवाया जा सकता है । आप एक से अधिक Demat Account भी खोल सकते हैं। अधिकतर निजी बैंक (Private Bank) आपको डीमैट खाता खुलवाने की सुविधा देते हैं । इसके अलावा कई निजी Brokers Companies के पास डीमैट खाता खुलवाया जा सकता है. इसके लिए आपको अपना पैन कार्ड (Pan Card) की कॉपी,Address Proof देना होता है और साथ में भी KYC भरना पड़ता है।

Demat Account In Hindi से जुडी जानकारी आपको कैसी लगी?

By VpHindiBlogger

Hi friends, My name is VP Yadav from UP. I am the Operational Head and Managing Director of https://nationalinsuranceblog.com My Specialization (10 Years Exp) SEO Analyst Blogging (Hindi Blogger) Affiliate Marketer Wordpress CMS Pinterest Marketing Expert

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *