Helping You Better Understand

Know about Insurance - Credits - Schemes - Fund & Investments

What is Economy in Hindi – अर्थब्यवस्था और उसकी definition हिंदी में

What Is Economy In Hindi – Definition Of Economy In Hindi

Economy के बारे में हिंदी में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी – दोस्तों हम सभी जानते है की किसी भी देश के लिए उसकी Economy Condition का अच्छा होना बहुत ही जरुरी होता है तभी उस देश को एक अच्छा और साधन सम्पन देश माना जाता है आइए इस पोस्ट के माध्यम से हम सभी जानते है की इकॉनमी क्या होती है और इसके अच्छे होने से किसी भी देश पर क्या प्रभाव होता है।

What Is Economy In Hindi

अर्थब्यवस्था का अर्थ – जिस स्थान या जगह पर आर्थिक क्रियाओं की ब्यवस्था की जाती है उस स्थान को हम सभी अर्थब्यवस्था कह सकते है। Economy = आर्थिक क्रियाएं + ब्यवस्था अर्थब्यवस्था का किसी भी देश में बहुत ही बड़ा योग्यदान होता है। आर्थिक क्रियाओं का निर्धारण और नियंत्रण अर्थब्यवस्था कहलाता है।

दोस्तों, सन 1776 में एक Books आयी थी जिसका नाम था “An Inquiry into Nature and Cause of Wealth of Nation”, जिसे एडम स्मिथ (Adam Smith 16 June 1723-17 July 1790) ने लिखा था। Adam Smith को Father of Economics भी कहा जाता है, यही इकॉनमी के जनक माने जाते है। वह एक Scottish Economist थे। उन्होने अपनी इस किताब में चर्चा की, कि मनुष्य धन का उत्पादन और उपभोग किस प्रकार करता है, अर्थात Economy का मतलब केवल रुपये पैसे से नहीं होती है बल्कि हर वो सामान जैसे घर, कार, सम्पति ये सभी धन में आते है। जिसकी एक कीमत होती है… अर्थशास्त्र इसके पहले भी था जब अरस्तु और चाणक्य हुआ करते थे, पर उसका स्वरुप कुछ अलग था, जो स्वरुप आज हम अर्थशास्त्र का देखते है वो एडम के ज़माने वाला ही अर्थशास्त्र है।

इकॉनमी के कई अर्थ होते है या Definition Of Economy In Hindi

अर्थव्यवस्था
मितव्य्यता
अर्थ-प्रबन्ध
किफायती
सुव्यवस्था
अर्थ प्रबन्धन

कुछ अर्थशास्त्रियों के द्वारा Economy की परिभाषा

रिकाडो के अनुसार – अर्थशास्त्र धन का बिज्ञान है, उन्होने कहा था धन अथवा राष्ट्रीय आय का भूस्वामियों, श्रमिकों तथा पूजीपतियों में वितरण किस प्रकार होता है, अर्थशास्त्र यही दर्शाता है। समाज में आय का वितरण किस प्रकार से होता है अर्थशास्त्र हमें यही दर्शाता है, और अर्थशास्त्र की यही परिभाषा होती है। उस समय अर्थशास्त्र की काफी आलोचना भी होती थी लोग इसको कुबेर का धन कहकर भी आलोचना करते थे उस समय यही कहा जाता था की अर्थशात्र कुछ नहीं केवल धन का बिज्ञान है। आज के समय में अर्थशास्त्र केवल धन का बिज्ञान नहीं रहा आज वो इससे कई गुना आगे निकल चूका है, आजकल अर्थशास्त्र बहुत विकसित हो गया है।

Alfred Marshall के अनुसार – वास्तव में धन केवल एक साधन मात्र है और मनुष्य का कल्याण साध्य है। अल्फ्रेड नावेल के इसमें धन के साथ – साथ एक शब्द और जो दिया मनुष्य का कल्याण अब अर्थशास्त्र को धन का विज्ञान के साथ – साथ मनुष्य का कल्याण के रूप में भी देखा जाने लगा। उन मुताबिक अर्थशास्त्र मनुष्य के उन कार्यों का अध्ययन करता है, जो वह जीवन की साधारण दिनचर्या में करता है तथा वो हर प्रयास, जो सुखी जीवन के लिए आवश्यक भौतिक साधन जुटाने में करता है।

Lord Robin’s के मुताबिक Economy वह विज्ञान है जो अनेक उदेश्यों और बैकल्पिक उपयोगों वाले दुर्लभ साधनों के संबध में मानव ब्यवहार का अध्ययन करता है।

Jacob Viner के अनुसार अर्थशास्त्र वह है, जो अर्थशास्त्री करते है।

अर्थशास्त्र में कुछ जरुरी चीजे आती है जैसे – National Income, Employment, Economic Growth, राष्ट्रीय आय, Rojgar का निर्धारण और आर्थिक विकास

What Is Economy In Hindi – Definition Of Economy In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

National Insurance © 2018 Frontier Theme