जी 20 क्या है – G20 इसका कार्य और महत्व ?

जी 20 क्या है? जाने क्या है जी-20 और क्या है इसका महत्व ?

बीस वित्त मंत्रियों (20 Finance Minister’s) और सेंट्रल बैंक के गवर्नर्स (Central Bank Governors) के समूह का एक संगठन है। जिसे हम G20 के नाम से भी जानते है। यह एक 20 देशों का संगठन समूह है जो अपने समूह के देशों के लिए काम करता है। G20 विश्व की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के वित्त मंत्रीयों और केंद्रीय बैंक के गवर्नर्स का एक संगठन है, जिसमें वर्तमान में 19 देश और यूरोपीय संघ शामिल हैं। जिसका प्रतिनिधित्व यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष और यूरोपीय केंद्रीय बैंक द्वारा किया है। वें जी -20 शिखर सम्मेलन का आयोजन 7और 8 जुलाई 2017 को हैम्बर्ग (जर्मनी) में चान्सलर एन्जेला मर्केल की अध्यक्षता में संपन्न हुआ था।

इसी साल India PM नरेंद्र मोदी इस्राइल की अपनी 3 दिवसीय ऐतिहासिक (Historical) यात्रा पूरी करने के बाद जी-20 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए जर्मनी के हैम्बर्ग शहर गए थे। जी 20 क्या है

जर्मनी की मेजबानी में आयोजित होने वाले जी-20 शिखर-सम्मेलन में शिरकत करने के लिए सभी सदस्य देशों से बहुत सारे लोग सम्मेलन में हिस्सा लेने जर्मनी पहुंचे हुए थे , इस साल की थीम शेपिंग एन इंटर-कनेक्टिड वर्ल्ड रखी गयी थी। शिखर सम्मेलन में अहम बहुपक्षीय और द्विपक्षीय वार्ता हुई।

जी-20 और क्या है इसका महत्व ?

जी-20 का मतलब Group 20 से है। ये दुनिया के 20 सबसे ताकतवर देशों और यूरोपीय यूनियन (EU) देशों का समूह है। इसकी स्थापना 1999 में 7 देशों अमरीका, कनाडा, ब्रिटेन, जर्मनी, जापान, फ्रांस और इटली के विदेश मंत्रियों ने की थी। लेकिन 2008 में फाइनेंशियल क्राइसिस Financial Crisis के बाद इस फोरम की अगुवाई ग्रुप के देशों के शीर्ष नेताओं को दे दी गई। इस ग्रुप का दुनिया की 85 फीसदी Economy और 75 फीसदी व्यापार पर कंट्रोल है। अमेरिका, कनाडा, रूस, जर्मनी, ब्रिटेन, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया, चीन और भारत समेत 20 देश हर साल समिट में मिलते हैं और दुनिया के आर्थिक हालात समेत कई मुद्दों पर चर्चा करते हैं। जी 20 क्या है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *